पाठ्यक्रम

अध्ययन के विषय एवं उपलब्ध करना :-

I. कला संकाय

(1.) कला स्तर :-

बी.ए.प्रथम/द्धितीय/तृतीय वर्ष
  1. (अ) तीन अनिवार्य विषय: 1. हिन्दी भाषा, 2. अंग्रेजी भाषा ,3. पर्यावरण अध्ययन ( केवल प्रथम वर्ष के लिए)
  2. (ब) तीन वैकल्पिक विषयों का चुनाव कर छात्र/छात्रायें चयन कर अध्ययन कर सकेगें-
  3. समाज शास्त्र विषयों
  4. राजनीतिशास्त्र
  5. हिन्दी साहित्य
  6. अर्थशास्त्र
  7. इतिहास
  8. बी.ए प्रथम/तृतीय वर्ष प्रत्येक में एक-एक सेक्शन होंगे। प्रत्येक सेक्शन में 320 छात्र/छात्राएँ को प्रवेश दिया जायेगा।

(2.) स्नातकोत्तर स्तर :-

कला संकाय
  1. विषय कुल स्थान (पूर्व एवं अंतिम प्रत्येक कक्षा में)
  2. अर्थशास्त्र 40
  3. राजनीतिशास्त्र 40
  4. समाज शास्त्र 40

II. वणिज्य एवं प्रबंध संकाय

(1) स्नातक स्तर :-

  1. बी.कॉम प्रथम/द्धितीय/तृतीय वर्ष में एक-एक सेक्शन होंगे।
  2. बी.कॉम प्रथम में निम्न समूह के अनुसार अधोलिखित विषयों का अध्ययन अनिवार्य हैं -
  3. अ.) अनिवार्य विषयः-
  4. हिन्दी भाषा
  5. अंग्रेजी भाषा
  6. पर्यावरण अध्ययन ( केवल प्रथम वर्ष के लिए)
  7. ब.) अनिवार्य समूहः- प्रथम प्रश्न पत्र द्धितीय प्रश्न पत्र
  8. प्रथम समूह वित्तीय लेखांकन व्यावसायिक गणित
  9. द्धितीय समूह व्यावसायिक संप्रेषण व्यावसायिक नियामक संस्था
  10. तृतीय समूह व्यावसायिक पर्यावरण व्यावसायिक अर्थशास्त्र
  11. स.) बी.कॉम प्रथम/ द्धितीय/ तृतीय वर्ष प्रत्येक कक्षा में 160 छात्र/छात्राओं को प्रवेश दिया जायेगा।
  12. द.) बी. कॉम तृतीय वर्ष में अनिवार्य के विषय के साथ साथ महाविधालय में पढ़ाये जाने वाले वैकल्पिक विषय का चयन करना होगा।

(2.) स्नातकोत्तर कक्षा :-

  1. एम. कॉम प्रथम,द्धितीय, तृतीय एवं चतुर्थ प्रत्येक कक्षा में 40-40 छात्र/ छात्राओ को प्रवेश दिया जा सकेगा ।
  2. विश्वविद्यालय के द्वारा निर्घारित विषय का ही अघ्यापन कार्य कराया जावेगा ।

III. विज्ञान संकाय के विषयः-

(1.)स्नातक स्तर :-

  1. बी.एस.सी. प्रथम/द्धितीय/तृतीय वर्ष गणित समूह में एक एक कक्षाएँ होगें।
  2. अनिवार्य विषयः- (अ) हिन्दी भाषा (ब) अंग्रेजी भाषा (स) पर्यावरण अध्ययन (केवल प्रथम वर्ष के लिए)
  3. बाॅयो समूह के लिए अनिवार्य समूहः- रसायन शास्त्र/ वनस्पति शास्त्र/ प्राणी शास्त्र
  4. बी.एस.सी. प्रथम/द्धितीय/तृतीय वर्ष प्रत्येक कक्ष में (बायो) में 120, (गणित) में 80 छात्र/छात्राओं को प्रवेश दिया जा सकेगा।