इतिहास

धमधा व इसके आसपास के क्षेत्र की पृष्ठभुमि ग्रामीण परिवेश के फलस्वरुप ग्रामीण युवक-युवतियों को उच्च शिक्षा का अवसर प्रदान करने के लिए धमधावासियों के अथक प्रयासों व प्रयत्नों के परिणामस्वरुप 16 अगस्त 1989 को शहर में उच्च शिक्षा के लिए महाविद्यालय की स्थापना हुई , जो वर्तमान में आज अपने रजत जयंती वर्ष की ओर अग्रसर होते हुए सिरनाभाठा स्थित लगभग 13 एकड़ जमीन पर अपने स्वयं के नवनिर्मित भवन में सुचारु रुप से संचालित व नियंत्रित हो रहा हैं। वर्तमान में महाविद्यालय में कला ,वाणिज्य एवं विज्ञान की स्नातक स्तर की कक्षाओं के साथ-साथ वाणिज्य एवं प्रबंध के क्षेत्र में स्नातकोत्तर कक्षा एम.काॅम तथा कला संकाय में राजनीतिशास्त्र , अर्थशास्त्र ,समाजशास्त्र की स्नातकोत्तर कक्षाएँ संचालित की जा रही हैं। वर्तमान में महाविद्यालय में सभी स्तरों पर कुल 739 छात्र-छात्राएँ अध्ययनरत् रहकर अपने उच्च शिक्षा के सपनों को साकार कर रहें हैं । यह महाविद्यालय पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय से संबंद्ध हैं तथा विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की धारा 12 B एवं 2F के अन्तर्गत अधिमान्य हैं |